दूध के फायदे और नुकसान ,दूध पीने का सही समय और सही तरीका

दोस्तों दूध एक मात्र ऐसी चीज है। जो अकेले ही सम्पूर्ण आहार के बराबर होता है। इसी वजह से पैदा होने वाले बच्चे सबसे पहले आहार के रूप में दूध पिलाया जाता है। अगर आप दूध के गुणों को ठीक से देखेंगे तो ये किसी अमृत से कम नहीं है। अगर हम अच्छी से अच्छी चीज का इस्तेमाल गलत तरीके से करते हैं।  तो उसका हमें फायदा होने के बजाय नुकसान हो जाता है। दूध एक पशु उत्पाद  होता है। जो हमें किसी जीवित प्राणी से मिलता है और हर वह चीज जो हमें किसी जीवित प्राणी से मिलती है। उसमें केमिकल रिएक्शन करने की टेंडेंसी बहुत ज्यादा होती है। जिसकी वजह से दूध का गलत मात्रा में और गलत तरीके से इस्तेमाल करने से अपचन,खट्टी डकार, गैस,कब्ज सीने में जलन और यहां तक की स्किन एलर्जी जैसी प्रॉब्लम शुरू हो सकती है।

इसलिए दूध की सही मात्रा दूध इ पीने का सही समय और दूध को किन-किन चीजों के साथ पीने से क्या-क्या नुकसान और क्या-क्या फायदे होते हैं।   इस बारे में जानकारी होना बहुत ही जरूरी होता है। इसलिए आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि एक दिन में ज्यादा से ज्यादा कितना दूध पिया जा सकता है।  दूध पीने का सही समय क्या है। जो लोग अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं या वजन घटाना चाहते हैं।  उन लोगों को दूध का इस्तेमाल कब करना चाहिए और किस तरह करना चाहिए। दूध गर्म होना चाहिए या ठंडा। भैंस का होना चाहिए या गाय का होना चाहिए। दूध का सेवन किन किन लोगों को करना चाहिएदूध का सेवन किन किन लोगों को बिल्कुल नहीं करना चाहिए। दूध को किन-किन चीजों के साथ मिलाकर खाने से क्या-क्या फायदे और क्या-क्या नुकसान होते हैं।  खासकर दूध को केले के साथ खाना चाहिए या नहीं। दूध को अंडे के साथ खाना चाहिए या नहीं

एक दिन में ज्यादा से ज्यादा कितना दूध पिया जा सकता है 

इसके लिए हमें पहले यह जानना होगा कि दूध में क्या क्या होता है और दूध कौन-कौन सी समस्याओं में फायदा पहुंचाता है।  दोस्तों दूध पोषक तत्वों से भरपूर होता है।  इसलिए दूध का सही समय पर और सही तरीके से इस्तेमाल पाचन क्रिया को ठीक करता है।  इसके अलावा दिमाग की ताकत को बढ़ाने , वजन का न बढ़  पाना, हड्डियों की कमजोरी, कब्ज, रातों को नींद ना आना, जैसी समस्याओं में फायदा पहुंचाने के साथ-साथ त्त्वचा बाल व सेक्सुअल हेल्थ को भी काफी तरीके से इंप्रूव करने में मदद करता है। दूध में कैल्शियम प्रोटीन व विटामिन डी की मात्रा सबसे ज्यादा होती है।  200 मिलीलीटर दूध में लगभग 257 मिलीग्राम कैल्शियम होता है। हमारे शरीर को 1000 मिलीग्राम से लेकर 1200 मिलीग्राम तक कैल्शियम की जरूरत पड़ती है। इस हिसाब से देखा जाए तो दिन में  एक से दो गिलास तक दूध का सेवन करना काफी हो जाता है।  क्योंकि बाकी के कैल्शियम और विटामिन डी हमें दूसरे खाने से भी मिल जाता है।  लेकिन अगर आप जिम या मेहनत वाला काम करते हैं तो दूध की मात्रा बढ़ाई जा सकती है।

दूध पीने का सही समय क्या है 

वैसे तो दूध का इस्तेमाल कभी भी किया जा सकता है।  रात के समय में दूध का सेवन करना सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होता है। दूध में tryptophan नाम नाम का अमीनो एसिड पाया जाता है। जो दिमाग को शांत करके अच्छी नींद दिलाने में मदद करता है और सुबह खुलकर पेट भी साफ होता है।  कुछ लोग सुबह खाली पेट दूध का इस्तेमाल करने में कंफ्यूज रहते हैं। सुबह खाली पेट भी दूध का इस्तेमाल किया जा सकता है। जिन  लोगों को लैक्टोस से अलेर्जी  है और हमेशा कब्ज व गैस की समस्या रहती है। उन्हें दूध खाली पेट कभी भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।  क्योंकि दूध पचने में काफी हैवी होता है।  खाली पेट दूध के सेवन को पचाने में हमारे पाचन तंत्र को बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

 दूध कैसे पीना चाहिए गर्म या ठंडा

दोस्तों दूध हमेशा हल्का गर्म यानी गुनगुना ही पीना चाहिए।  क्योंकि दूध वैसे भी पचने में थोड़ा हैवी होता है। जब हम ठंडा दूध या फ्रिज में रखा दूध पी लेते हैं। तो यह बहुत ज्यादा हैवी हो जाता है और यह हमारे पेट में जाकर ठीक से पच नहीं पाता है। जिसकी वजह से दूध में मौजूद पूरे पोषक तत्वों का फायदा हमारे शरीर को मिल ही नहीं पाता है। अब बात करते हैं

दूध गाय का पीना चाहिए या भैंस का पीना चाहिए

दोस्तों दोनों ही दूध में कैल्शियम काफी मात्रा में पाया जाता है।  भैंस के दूध में गाय के दूध के मुकाबले फैट और कैलरी दोनों ही बहुत ज्यादा होते हैं।  जो लोग अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं।  उन्हें भैंस के दूध का ही सेवन करना चाहिए।  दूसरी दूसरी तरफ गाय के दूध में फैट की मात्रा बहुत कम होती है।  इसलिए गाय का दूध पचने में भी हल्का होता है।  सेहत व ताकत के नजरिए से भी गाय का दूध काफी हेल्दी होता है। इसलिए जो लोग अपना वजन बढ़ाना नहीं चाहते या वजन घटाना चाहते हैं। उन्हें गाय के ही दूध का सेवन करना चाहिए।

जैसा कि मैंने पहले ही आपको बताया कि दूध हमें जीवित प्राणी से मिलता है।  इसलिए इस दूध में हारमोन एंजाइम्स और अमीनो एसिड की मात्रा ज्यादा होती है। जिसकी वजह से दूध ज्यादातर खाने के साथ केमिकल रिएक्शन भी जल्दी करने लगता है। जिसकी वजह से दूध पच नहीं पाता और दूध से मिलने वाले फायदे भी जीरो हो जाते हैं। इसलिए दूध पीने के दौरान हमारे द्वारा की गई छोटी से छोटी गलती भी दूध के फायदों को नुकसान में बदल सकती है।

दूध कब नहीं पीना चाहिए 

अक्सर हम लोग रात का खाना खाने के तुरंत बाद दूध पी लेते हैं। पोषक तत्व के नजरिए से दूध अपने आप में ही एक वक्त के खाने के बराबर होता है। अगर हम खाना खाने के तुरंत बाद दूध पी लेते हैं। तो इसका मतलब होता है।  एक समय में ही दो वक्त का खाना खा लेना। साथ ही साथ पेट फूलना,गैस, अपचन  जैसी समस्या शुरू होने लगती है। इसलिए दूध का सेवन खाना खाने के लगभग 2 घंटे बाद और सोने से आधे घंटे पहले करना चाहिए। दू खट्टे फल तली हुई चीजें वनमकीन चीजों के साथ। दोस्तों खट्टी चीजें जैसे कि नींबू संतरा और नमकीन चीजें जैसे कि मिक्सर हजार अचार और जंक फूड जैसी चीजों के साथ दूध का मेल बिल्कुल भी नहीं मिलता हैं। तो अगर हम दूध को पीने से पहले व दूध के पीने के तुरंत बाद इन चीजों का सेवन कर लेते हैं। तो यह हमारे पेट में जाकर हमारी पाचन क्रिया को बहुत ही ज्यादा धीमा कर देते हैं।  जिस से अपचन पेट का फूलना, पेट भारी होना और गैस , पेट दर्द जैसी समस्या शुरू हो जाती है।  दूध पीने से पहले वह दूध पीने के बाद वह दूध पीने के साथ नमकीन वह खट्टी चीजों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

दूध केले के साथ और दूध चीनी के साथ पीना चाहिए या नहीं पीना चाहिए 

कुछ लोग दूध का इस्तेमाल केले के साथ जूस बनाकर या शेक बनाकर करते हैं। अगर आपको पाचन की समस्या नहीं होती तो आप दूध के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं।  लेकिन अगर हम आयुर्वेद की मानें तो दूध अपने आपने एक हैवी होता है। दूध को पचने में 90 मिनट का समय लगता है।  इसलिए अगर हम दूध को किसी फल  के साथ मिक्स कर देते हैं। फल के साथ इसका सेवन करते हैं। तो यह और भी ज्यादा हैवी हो जाता है। इसे पचाने के लिए हमारे पाचन तंत्र को बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। एक बड़ी गलती है जो हम सभी करते हैं कि हम सब जूस बनाने में ठंडे दूध का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही साथ हम इसमें चीनी भी मिक्स कर देते हैं।  जो किसी भी तरीके से एक अच्छा विकल्प नहीं है। दूध का ज्यादा ठंडा होना दूध को और भी ज्यादा हैवी बना देता है।अगर हम दूध में चीनी मिला लेते हैं। तो यह दूध के पोषक तत्व को काफी हद तक नष्ट कर देती है।  दूध में लैक्टोज नाम का नेचुरल शुगर होता है।  जो दूध को मीठा बनाता है।  लेकिन अगर आप दूध को अलग से मीठा करना चाहते हैं।  तो दूध को मीठा करने के लिए शहद,मिश्री,देसी खांड और  गुड़ के पाउडर का इस्तेमाल किया जा सकता है। दूध व दूसरे खानों के बीच कम से कम 2 से 3 घंटे का अंतराल व दूध व मीठे फल के बीच आधे घंटे से 1 घंटे तक का अंतराल होना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। दूध का अंडे और गोस्त के साथ सेवन करना चाहिए या नहीं  

दूध का सेवन अंडे के साथ वह गोश्त के साथ कहा जाता है कि दूध पीने से पहले या दूध पीने के बाद मछली खा ली जाए तो शरीर पर सफेद धब्बे की बीमारी हो जाती है।  हालांकि यह बात साइंस के हिसाब से पूरी तरह से प्रूव नहीं है। लेकिन फिर भी इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। क्योंकि स्किन पर सफेद धब्बों की बीमारी होने के निश्चित कारण आज भी साइंटिफिकली प्रूव नहीं हो सके है। हमारे बड़े बुजुर्ग भी दूध के साथ मछली खाने की हमेशा से ही मना करते हैं। यह अलग बात है कि हम में से ज्यादातर लोग बड़े बुजुर्गों की बातों को नजरअंदाज कर देते हैं। क्योंकि हमारे बड़े बुजुर्ग हमें किसी भी बात की वजह ठीक तरह से एक्सप्लेन नहीं कर पाते हैं।  लेकिन अगर हम उनकी बातों को पर गौर दे तो हम जान पाएंगे कि उनकी ज्यादातर बातें हमारी जिंदगी की सच्चाई से जुडी होती  है। इसलिए बेहतर यही होगा कि आप दूध और मछली का सेवन एक साथ ना करें।  अगर आप इन दोनों  खाना ही चाहते हैं तो इन दोनों चीजों के यानी की मछली और दूध के सेवन के बीच कम से कम 3 से 4 घंटे का अंतराल जरूर रखें। अगर आपको पाचन की समस्या नहीं होती तो आप दूध का अंडे के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं।  यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि मांस व दूध दोनों में ही प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है। जिससे हमारी पाचन क्रिया काफी स्लो हो जाती है।  इसे डाइजेस्ट करने में बहुत ही ज्यादा समय लगता है। इसलिए दूध के साथ नॉनवेज का सेवन करना अच्छी बात बिल्कुल भी नहीं है। अगर आप खाने में कच्चे प्याज व बैंगन का सेवन करते हैं। तो यह भी दूध के बिल्कुल विरुद्ध होता है। इसलिए हर हाल में दूध व अन्य खाने के बीच कम से कम 2 से 3 घंटों का अंतराल जरूर रखना चाहिए।

 दूध का दही के साथ सेवन करना चाहिए या नहीं 

दोस्तों दही में लैक्टोबैसिलस नाम का बैक्टीरिया होता है। जो कि दूध को दही में जमाने में काफी मदद करता है। इसलिए जब हम दूध और दही का एक साथ सेवन कर लेते हैं।  तो दूध के दही बनने की प्रक्रिया हमारे पेट में ही शुरू हो जाती है।  जिसकी वजह से हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम पूरी तरह से कंफ्यूज हो जाता है।पाचन क्रिया में समस्या आ जाती है। इसलिए दूध के साथ दही का सेवन तो बिल्कुल ही नहीं करना चाहिए।

किन लोगों को दूध नहीं पीना चाहिए

जिन लोगों के शरीर पर कोई बड़ा जख्म मौजूद है। हाल ही में सर्जरी हुई हो उन्हें दूध का इस्तेमाल कुछ कुछ दिनों के लिए बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।  क्योंकि दूध के जल लगातार इस्तेमाल करने से जख्म सुख नहीं पाते हैं। हमें इस समस्या का लगातार सामना करना पड़ता है। जिन लोगों को लैक्टोस  से एलर्जी है और हमेशा चेहरे पर एक्ने की समस्या रहती है उन्हें भी दूध कम मात्रा में सेवन  करना चाहिए। शरीर का रिस्पांस देखते हुए धीरे-धीरे उनकी मात्रा बढ़ानी चाहिए।

तो दोस्तों यह मेरी एक छोटी सी कोशिश थी कि दोस्त के बारे में आप लोगों तक सही जानकारी पहुंचा सकू। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी। अगर आप अपने किसी दोस्त व रिश्तेदार के पास इस जानकारी को पहुंचाना चाहते हैं तो इसके शेयर जरूर करें धन्यवाद

दूध का सेवन क्यों करना चाहिए 

दूध एक ऐसी खुराक है। जो उम्र में इंसान के शरीर के शरीर की हर तरह की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए शरीर का विकास करती है।  दूध में ढेरों पोषक तत्व के होते हैं। जो हर उम्र के व्यक्ति के लिए फायदेमंद होते है। ऐसा बिल्कुल भी सत्य नहीं है कि सिर्फ बच्चों और महिलाओं को ही दूध पीना चाहिए। पुरुषो के लिए भी दूध पीना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। पुरुषों को अपने बालों में हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए रोजाना दूध पीना चाहिए। दूध इंसानों को कई तरह की समस्याओ से बचाने में काफी ज्यादा मददगार होता है।

हम सभी जानते हैं कि दूध हमें ढेरों समस्याओं से बचाकर किस तरह फायदा पहुंचाता है। दूध में पाए जाने वाला प्रोटीन  टेस्टोस्टरॉन नाम के हार्मोन को एक्टिव करता है।  जिससे फर्टिलिटी बढ़ती है। दूध में पाए जाने वाला एमिनो एसिड दिमाग को शांत करने में अच्छी नींद लाने में हेल्प करता है।

जापान में हुई एक रिसर्च के अनुसार दूध में मौजूद कैल्शियम स्ट्रोक से बचाता है। मैग्नीशियम फास्फोरस जैसे मिनरल्स मौजूद होने की वजह से दूध हमें दिल की बीमारियों से बचाता है। मौजूद कैल्शियम,पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे मिनरल्स ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करके हाई बीपी की प्रॉब्लम से भी हमें बचाते हैं। एक गिलास दूध में पुरुषों की जरूरत का 37% कैल्शियम मौजूद होता है। जो की हड्डियों को मजबूत रखता है साथ ही दूध में छिपे प्रोटीन बॉडी बिल्डिंग में भी मदद करते हैं। अब हम कह सकते हैं कि दूध में वह सभी गुण मौजूद हैं जिनका हमें रोजाना सेवन करना चाहिए।  अगर आपने अभी तक अपनी डाइट में दूध को शामिल नहीं किया है। तो  इसे अपनी डाइट में शामिल जरूर करें और रोजाना कम से कम एक गिलास दूध का सेवन अवश्य करें।


अनार खाने के फायदे और अनार खाने के नुकसान

किस कारण होता है शुगर डायबिटीज (शुगर)को ठीक करने के उपाय

कड़वे करेले खाने के फायदे || जानिए किन लोगो को करेला नहीं खाना चाहिए 

गोरा होने के उपाय जिनकी मदद से आप हमेशा के लिए गोरा हो सकते है

Height || तेजी से हाइट कैसे बढ़ाये || हाइट बढ़ाने के तरीके

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *