Ashwagandha Who When and How to Eat Ashwagandha Benefits and Disadvantages

अश्वगंधा कौन कब और कैसे खाये अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान

दोस्तों अश्वगंधा एक बहुत ही पावरफुल जड़ी बूटी की श्रेणी में आता है। जिसका टोनी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। जो कि कई सारी बीमारियों से बचाने के साथ-साथ, शरीर को अंदर से ताकत प्रदान करने का कार्य करता है। लेकिन इसका सही फायदा शरीर को मिलने के लिए , इसे खाने का सही समय और सही तरीके का पता होना बहुत जरूरी होता है।इसलिए आज की इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कि:-

  • अश्वगंधा क्या है 
  • अश्वगंधा का कब कैसे और कितना इस्तेमाल करना चाहिए 
  • अश्वगंधा के फायदे और नुकसान क्या है
  • किन लोगों को किन लोगों को अश्वगंधा का इस्तेमाल करना चाहिए और किसे इस्तेमाल नहीं करना चाहिए 
  • अश्वगंधा को इस्तेमाल करते वक्त किन किन बातों का ख्याल रखना चाहिए 
  •  क्या अश्वगंधा का ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल करने से कोई नुकसान भी हो सकता है 

अश्वगंधा क्या है 

अश्वगंधा शरीर के हार्मोन को बैलेंस करने का काम करता है। एंजाइटी डिप्रेशन और तनाव को कम करने के साथ-साथ अच्छी नींद पाने ,दिमागी ताकत बढ़ाने और आपके मूड को तरोताजा रखने , ब्लड शुगर को कम करने का काम करता है। यह शरीर में टेस्टोस्टरॉन जैसे हार्मोन की मात्रा को बढ़ाता है। जिससे शरीर में मसल मास की मात्रा को बढ़ाने और बढ़ी हुई चर्बी को कम करने में काफी मदद मिलती है।

इतना ही नहीं है यह औरतों और मर्दों में सेक्सुअल पावर को इंप्रूव करने, इम्यूनिटी पावर को बढ़ाने और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में भी काफी मदद करता है। सवाल यह उठता है, कि आखिर अश्वगंधा में ऐसा क्या है। जो कि शरीर को इतने सारे फायदे पहुंचाता है। दरअसल अश्वगंधा एक पौधे के रूप में होता है। जिसकी जड़ को सुखाकर पाउडर और कैप्सूल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। वैसे तो अश्वगंधा में कई तरीके के मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। लेकिन इसकी सबसे खास बात यह है, कि यह टेंशन और तनाव की वजह से शरीर में आए असंतुलन को फिर से संतुलित करने का काम करता है।

यह बात तो हर किसी को पता है कि टेंसन और तनाव का होना लगभग सभी बीमारियों की जड़ होती है। चाहे त्वचा से जुड़ी कोई समस्या हो या कमजोर बाल , मानसिक या शारीरिक कमजोरी , सेक्सुअल प्रॉब्लम,  रात को जल्दी नींद आना। इन बीमारियों को और भी ज्यादा बढ़ाकर बद से बदतर बनाने में टेंशन और तनाव का बहुत बड़ा हाथ होता है।

उसी तनाव को अश्वगंधा बहुत बेहतरीन तरीके से कंट्रोल करने का कार्य करता है। जिससे कि उलझा हुआ दिमाग शांत होता है। शरीर अपने आप में बैलेंस होने लगता है।  यही वजह है कि अश्वगंधा को शरीर के लिए इतना फायदेमंद माना जाता है।

अश्वगंधा का किस रूप में इस्तेमाल करना चाहिए पाउडर या फिर कैप्सूल

अश्वगंधा दोनों ही तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन पाउडर के रूप में इस्तेमाल करना ज्यादा बेहतर माना जाता है। क्योंकि अश्वगंधा बहुत ही आसानी से पाउडर में बदल जाता है। जबकि कैप्सूल में कैप्सूल के रूप में बनाने के लिए अश्वगंधा को कई तरीके की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। इसलिए कैप्सूल के मुकाबले पाउडर ज्यादा नेचुरल रूप में मौजूद होता है।

हालांकि कंपनी वाले की नियत में खोट हो तो वह कैप्सूल और पाउडर दोनों में ही मिलावट कर सकते हैं।इसलिए इसे खरीदते वक्त सिर्फ सस्ते के पीछे ना भागे और इसकी अच्छी क्वालिटी का भी खास ख्याल रखना चाहिए।

Advertisement

अश्वगंधा को किन चीजों के साथ इस्तेमाल करना चाहिए

अगर आपको A2  मिल्क गया मतलब देसी गाय का दूध मिलता है। तो अश्वगंधा को हल्के गर्म दूध के साथ इस्तेमाल करना। सबसे बेहतर उपाय हो सकता है। देसी गाय का दूध ना मिलने पर इससे भैंस के दूध के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है।  अगर आपको वह दूध भी ना मिले। तो इसे सिर्फ हल्के गर्म पानी के साथ में इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसके स्वाद को बेहतर बनाने के लिए इसमें थोड़ा सा धागे वाली मिश्री या प्योर शहद का इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि अगर शहद आपको प्योर ना मिले। तो इसे बिना शहद के ही इस्तेमाल करना सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है।

अश्वगंधा का इस्तेमाल कब करना चाहिए 

अश्वगंधा को रात का खाना खाने के दो घंटे बाद और सोने से एक घंटे पहले इस्तेमाल करना। सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है। लेकिन अगर आपके लिए अश्वगंधा को इस तरीके से इस्तेमाल करना मुमकिन ना हो। तो इसे आप रात के खाने के एक घंटे पहले भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

उसी तरह अगर आप इसे सुबह के वक्त इस्तेमाल करना चाहते हैं। तो इसे नाश्ते के एक डेढ़ घंटे पहले या फिर इसे नाश्ते के दो  घंटे बाद इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा अगर आप हेवी वर्क आउट करने के बाद प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल करते हैं। तो आप अश्वगंधा को उस प्रोटीन में डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

अश्वगंधा का कितना इस्तेमाल करना चाहिए 

आमतौर पर अश्वगंधा का आपको पूरे दिन में सिर्फ एक बार ही इस्तेमाल करना चाहिए।  हालांकि एक्सरसाइज या फिर बहुत ज्यादा मेहनत करने वाले लोग इसका दिन भर में दो बार इस्तेमाल कर सकते हैं।  साथ ही अश्वगंधा तासीर में गर्म होने की वजह से इसकी शुरुआत हमेशा ही थोड़ी मात्रा से करनी चाहिए।

अगर आप पहली बार इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। तो एक बार में आधा चम्मच अश्वगंधा काफी हो जाता है,और बाद में एक छोटा चम्मच तक इसकी मात्रा बढ़ाई जा सकती है।  औरतों को बताई गई मात्रा से आधी मात्रा का इस्तेमाल करना चाहिए। मतलब की शुरुआत में एक चौथाई और बाद में इसे आप आधी चम्मच तक बढ़ा सकते हैं। अगर आप एक्सरसाइज करते हैं तो इसका थोड़ा ज्यादा मात्रा में सेवन कर सकते है।

किन लोगों को अश्वगंधा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए 

पहले तो जिन लोगों के पेट में अल्सर की समस्या या फिर पेट में बहुत ज्यादा गर्मी महसूस होती है।  उन लोगों को अश्वगंधा का तब तक इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। जब तक कि पेट का अल्सर पूरी तरीके से ठीक ना हो जाए। अश्वगंधा कुछ दवाइयों के साथ भी React करता है। इसलिए खास कर वह लोग जो पहले से ही किसी बीमारी की दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं।

Advertisement

उन्हें अश्वगंधा का इस्तेमाल करने से पहले किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।  इसके अलावा जिन लोगों को लो ब्लड प्रेशर की समस्या है। उन्हें भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि अश्वगंधा ब्लड प्रेशर को कम करने का कार्य करता है।

जो कि हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए तो फायदेमंद होता है। लेकिन लो ब्लड प्रेशर में इसका इस्तेमाल करने से यह समस्या को और भी ज्यादा बढ़ा सकता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाएं और जिन औरतों के दूध पीने वाले छोटे-छोटे बच्चे  हैं। उन्हें भी अश्वगंधा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, नहीं तो यह फायदों की बजाय नुकसान पहुंचा सकता है।

इसके अलावा हार्मोन से जुड़ी समस्या जैसे हार्मोन की मात्रा बढ़ गई हो।  तो उसमें भी अश्वगंधा का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। नहीं तो इससे समस्या और भी ज्यादा बढ़ सकती है।

अर्थराइटिस , थायराइड और सोरायसिस जैसी जैसी बीमारियों में अश्वगंधा का असर कई बार उल्टा भी हो जाता है। लेकिन फिर भी अगर आपको अर्थराइटिस, थायराइड और सेरोसिस जैसी कोई बीमारी है। तो आपको अश्वगंधा का इस्तेमाल करने से पहले किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

क्या अश्वगंधा का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी हो सकता है 

अश्वगंधा का कभी भी ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह एक बहुत ही शक्तिशाली जड़ी-बूटी होने की वजह से इसका ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल करने से उल्टी दस्त, और कई तरह की अन्य समस्या उत्पन्न हो सकती है।

अश्वगंधा का इस्तेमाल करते वक्त कौन-कौन सी बातों का ख्याल रखना चाहिए

सबसे पहले तो इस बात को समझना जरूरी है कि अश्वगंधा तनाव को सिर्फ कम करता है। वह इसे खत्म नहीं करता। इसलिए अश्वगंधा का इस्तेमाल करने के साथ-साथ , आपको अपनी उन आदतों पर भी नियंत्रण करना चाहिए। जो कि तनाव को बढ़ाने का कारण बनती है।

Advertisement

अश्वगंधा तासीर में गर्म होता है। इसलिए अगर आप इसका इस्तेमाल करते हैं। तो आप अपने पूरे दिन खाए जाने वाले खानों में ज्यादा रस वाले फल और सब्जियों को जरूर शामिल करें। साथ ही एक सही मात्रा में पानी पीने का भी खास ख्याल रखना चाहिए।

निष्कर्ष :- इस पोस्ट में आपने किन लोगों को अश्वगंधा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए ,क्या अश्वगंधा का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी हो सकता है ,अश्वगंधा का कितना इस्तेमाल करना चाहिए ,अश्वगंधा का इस्तेमाल कब करना चाहिए ,अश्वगंधा को किन चीजों के साथ इस्तेमाल करना चाहिए ,अश्वगंधा का किस रूप में इस्तेमाल करना चाहिए पाउडर या फिर कैप्सूल ,अश्वगंधा क्या है के बारे में पढ़ा उम्मीद करता हूँ कि आपको यह पोस्ट पसंद आयी होगी।

अश्वगंधा से जुड़े कुछ सवाल जवाब 

1.क्या अश्वगंधा को रोजाना लेना सुरक्षित है?

हाँ रोजाना एक चौथाई से लेकर आधी छोटी चम्मच। बाकी डॉक्टर से सलाह ले।

2.अश्वगंधा के दुष्प्रभाव क्या हैं?

हाँ इसकी तासीर गर्म होती है। ज्यादा मात्रा में लेना समस्या उत्पन्न कर सकता है।

3.अश्वगंधा शरीर के लिए क्या करता है?

Advertisement

दिमाग को शांत करके हार्मोन को बैलेंस करता है।

4.अश्वगंधा आपके लिए खराब क्यों है?

इसकी तासीर गर्म होने की वजह से।

5.अश्वगंधा का सेवन किसे नहीं करना चाहिए?

प्रेग्नेंट औरत और छोटे बच्चो को दूध पिलाने वाली औरत। जिन लोगों के पेट में अल्सर की समस्या या फिर पेट में बहुत ज्यादा गर्मी महसूस होती है। लो ब्लड प्रेशर में इसका इस्तेमाल करने से यह समस्या को और भी ज्यादा बढ़ा सकता है। अर्थराइटिस , थायराइड और सोरायसिस जैसी जैसी बीमारियों में अश्वगंधा का असर कई बार उल्टा भी हो जाता है।

6.अश्वगंधा का सेवन सुबह या रात में करना चाहिए?

रात ने सेवन करना गर्म दूध के साथ सबसे अच्छा होता है। आप सुबह भी सेवन कर सकते है।

Advertisement

7.क्या अश्वगंधा से बाल झड़ते हैं?

तनाव को कम करता है और मूड को बूस्ट करता है।

8क्या अश्वगंधा आपको सोने में मदद करता है?

अश्वगंधा नींद की गुणवत्ता में भी सुधार कर सकता है और अनिद्रा के उपचार में मदद कर सकता है। विशेष रूप से, पौधे की पत्तियों में यौगिक ट्राइथिलीन ग्लाइकॉल होता है, जो नींद को बढ़ावा देता है।
9.चिंता के लिए मुझे कितना अश्वगंधा लेना चाहिए?
हाँ यह तनाव को कम करता है और मूड को बूस्ट करता है।

10.कौन सा अश्वगंधा सबसे अच्छा है?

नेचुरल पाउडर के रूप में

Leave a Reply