Astral travel-अपने शरीर से आत्मा को अलग कैसे करे

0
84

          अपने शरीर से बाहर निकले ये सुनकर आपको थोड़ा अजीब लग रहा होगा। जब मैंने पहली बार सुना था तो मेरे को भी अजीब लगा था। क्या है ये out of body experience और astral travel. एक बार आप अपने शरीर को देखे  जिसे देख रहे है वो आपका सिर्फ भौतिक शरीर है असल में आपके शरीर में एक सूक्ष्म शरीर भी होता है। इसके बारे में आपने कई बार सुना होगा। ये और कुछ  नहीं आत्मा है कई लोग इसे चेतना भी कहते है।  इंग्लिश में इसे sprit और soul कहा जाता है। 

astral travel jankari news
image from pixbay

THE RUSSIAN SLEEP EXPERIMENT || इंसान की दानवता ?

                                आपके शरीर के अंदर  दूसरे शरीर की  बात कर ली। अब हम आपके सराउंडिंग की बात करते है। क्या आप अपने चारो तरफ जो चीज देख रहे है वही सच है तो दोस्त आप  dimensons से बनी दुनिया को देख रहे है। शुरुआत में साइंस भी यही मानता था की इस दुनिया में तीन ही डाइमेंशन्स मौजूद है। पर जैसे जैसे क्वांटम फिजिक्स सामने आया हमे पता लगा की इस दुनिया में तीन से ज्यादा dimensons मौजूद है। आपके दिमाग में भी ये सवाल आ रहा होगा की वो हमे दिखाई क्यों नहीं देता है। आप उस दुनिया को इसलिए नहीं देख पा रहे हो क्योंकि आप पांच इन्द्रीओं से बंधे हुए हो। हमारा भौतिक शरीर इन इन्द्रियों से बंधा हुआ होता है। लेकिन हमरा सूक्ष्म शरीर जो हमारे शरीर के अंदर होता है वो ऐसे ऐसे काम कर सकता है। जो हमारा दिमाग सोच भी नहीं सकता। ये जो  हमारा सूक्ष्म शरीर है ये हमारे शरीर से निकल कर कही पर भी जा सकता है। 

                                 Astral travel के दौरान आप जो चाहे वो कर सकते हो आप कहि पर भी जा सकते हो। यहां तक की आप अपने शरीर को भी देख सकते हो। ऐसा आपको रोज  सुनने को नहीं मिलता है अगर  इसको google पर सर्च करेंगे तो आप लाखो लोगो की Astral  travel के बारे में पढ़ पाएंगे। अब आप ये सोच रहे होंगे की ये किया कैसे जाता है।  इसको करने की कोई बहुत से ट्रिक और तकनीक है। लेकिन हर तकनीक आपके लिए काम नहीं करेगी। ये अब आपको देखना है।  आपके लिए कोनसी तकनीक काम करती है। 


THE RUSSIAN SLEEP EXPERIMENT


The hammock technique:-

   ये तकनीक लगभग सब के लिए काम करती है। इसके लिए आप कहि पर भी लेट जाए। बस आपकी रिड की हड्डी यानि सपाईनल कोर्ड बिलकुल सीधी रहनी चाहिए। आप अपनी साँसों पर फोकस कीजिये। जैसे जैसे आप  साँसों पर फोकस करेंगे वैसे वैसे आपके दिमाग के विचार काम होते चले जायेगे और अब आप   अपने शरीर को ढीला छोड़ दीजिये। अब आपको नींद आने लगे गी। अब आपको अपने शरीर को तो सोने देना है पर अपने दिमाग को जगाये रखना है। मतलब आपको जागृत रहना है। पर शरीर को सोने  देना है। लेकिन प्रॉब्लम ये है की जब हमारा शरीर सोता है तो दिमाग अपने आप सोने की मुद्रा में चला जाता है तो आपको हर पल जागरूक रहना है। 

                             ऐसा करना सुरु सुरु में थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन ये इतना भी मुश्किल नहीं है। जब आप जागरूक होंगे और शरीर सो जायेगा  तो आप vibrate होने लगोगे तो घबराना मत ये तो शुरुआत है। इस स्टेप  आप अपने शरीर से भर बाहर निकल जाओगे और अपने शरीर को देख पाओगे। फिर आपको कुछ अजीब सी आवाजे सुनाई देने लगेगी। ये सब आपके लेटने के बाद 15 मिनट के अंदर हो जाना चाइये। कई लोगो ने यह भी महसूस किया है की 15 मिनट के बाद आप 5 से 6 घंटे तक अलग अलग जगहों पर घूमोगे पर असल ज़िंदगी में बस 5 मिनट ही गुजरे होंगे। अगर आप सपने देखते हो तो वो और कुछ नहीं astral  travel  ही है। जो आप सपनो में देखते हो वो दूसरी दुनिया में हक़ीक़त में होता है। 

                      बाकी आप इसके बारे में google पर आप लोगो के एक्सपीरियंस पढ़ सकते हो। इसके बारे में हमे कमेंट में जरुरु बातये।


 इंसान की दानवता

THE RUSSIAN SLEEP EXPERIMENT


 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here