हड़ताल पर गए नाराज बांग्लादेश के क्रिकेटर

बांग्लादेश का आगामी भारत दौरा खटाई में पड़ गया है। क्योंकि अब राष्ट्रीय टीम के कई खिलाड़ियों ने वेतन बढ़ाने के साथ कई और मांगों को लेकर क्रिकेट से जुड़ी किसी भी गतिविधि में भाग लेने से मना कर दिया है। टेस्ट और  T20 में टीम के कप्तान शाकिब अल हसन,महमूदुल्लाह और मुशफिकुर रहीम सहित देश के शीर्ष क्रिकेटरों ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में बहिष्कार के बारे में बताया।

इस विरोध प्रदर्शन में लगभग 50 क्रिकेटर शामिल है। खिलाड़ियों के इस विरोध का नेशनल क्रिकेट लीग पर पर असर पड़ेगा। जो अभी खेली जा रही है। खिलाड़ियों की इस योजना से बंगलादेश का अगले महीने होने वाला भारत दौरा भी अधर में पड़ सकता है। यह दौरा 3 नवंबर से शुरू होगा। जिसमें तीन टी-20 और दो टेस्ट मैचों की सीरीज होनी है।

भले ही खिलाड़ियों के इस रवैया से दौरे पर खतरे की बात की जा रही हो। लेकिन बीसीसीआई ने तैयारी शुरू कर दी है। नवनिर्वाचित अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने टेस्ट मैच देखने के लिए उनका निमंत्रण स्वीकार कर लिया है। गांगुली ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी आमंत्रित किया जाएगा।

दूसरी तरफ बीसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निजामुद्दीन चौधरी ने कहा हमें इसके बारे में अभी भी पता चला है। हम बोर्ड में इस बारे में चर्चा करेंगे और इसके समाधान की कोशिश करेंगे।

क्या है मांग

बांग्लादेश प्रीमियर लीग का आयोजन फ्रेंचाइजी आधार पर जारी रखा जाए

ढाका प्रीमीयर लीग के लिए खिलाड़ियों का ओपन मार्केट ट्रांसफर होना चाहिए

सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट वाले खिलाड़ियों का वेतन ज्यादा होना चाहिए और इसमें ज्यादा खिलाड़ियों को शामिल किया जाना चाहिए

प्रथम श्रेणी में खेलने वाले क्रिकेटरों की मैच फीस एक लाख  टका होनी चाहिए जो अभी 35000 टका है इसके था साथ ही प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों के वेतन में 50% का इजाफा करना चाहिए शाकिब अल हसन

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *