gaganyaan

Gaganyaan mission-3 भारतीय अंतरिक्ष में गुजारेंगे सात दिन

gaganyaan
gaganyaan mission

gaganyaan mission मोदी सरकार ने स्‍वदेशी तकनीक पर आधारित अंतरिक्ष प्रोग्राम गगनयान को मंजूरी दे दी है। इस प्रोग्राम के तहत साल 2022 में तीन अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर विमान रवाना होगा। इस पूरे मिशन पर करीब 10,000 करोड़ रुपए की लागत आएगी। इस अंतरिक्ष प्रोग्राम के बारे में केंदरीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को जानकारी दी। आपको बता दे कि भारत की ओर से अब तक किसी भी मानव अंतरिक्ष मिसन को अंजाम नहीं दिया गया है।

भारत के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा थे। जो अंतरिक्ष में गए थे। गगनयान भारत का एक महत्वकांशी अंतरिक्ष प्रोग्राम है। ये कई मामलो में भारत के लिए अहम है। सरकार की ओर से इस कार्यक्रम के लिए 10000 करोड़ का बजट दिया गया है। अगर ये मिसन सफल रहा तो भारत इंसानो को अंतरिक्ष में भेजने वाला चौथा देश बन जायेगा। PM मोदी ने देश की 72 सालगिराह पर इस बात का एलान किया था।

माना जा रहा है कि इस मिशन के लिए अपने सबसे बड़े राकेट JSLV 3 की मदद से तीन भारतीयों को अंतरिक्ष में भेजेगा। इसे आंध्र प्रदेश को हरिकोटा से लांच किया जायेगा। खबर के मुताबिक इसरो 40 महीने में पहले मिशन को लांच कर सकती है। ये प्लान अभी नमूने के तौर पर है। जिसमे 2 unmaned फ्लाइट्स और 1 maned फ्लाइट को तीन crew के साथ पांच से सात दिनों तक धरती की कक्षा में रखा जायेगा।

बता दे की इसरो अभी तक मानवीय अंतरिक्ष उड़ान के लिए जरुरी टेक्नोलॉजी को डेवलप करने के लिए करीब 173 करोड़ रुपये खर्च कर चूका है। साल 2008 में पहली बार इस योजना का जिक्र किया गया था। लेकिन उस वक़्त अर्थव्यवस्था की खराब हालात और लगातार फ़ैल हो रहे रॉकेट्स की वजह से इसे रोक दिया गया था। आपको बता दे कि विंग कमांडर पहले भारतीय है जिनके नाम अंतरिक्ष में सबसे पहले जाने का रिकॉर्ड दर्ज है।

कृपया इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचाने के लिए किसी भी प्लेटफार्म {फेसबुक,ट्वीटर,व्हाट्सप्प,} पर शेयर जरूर करे।

जरूर पढ़े

पासपोर्ट को लेकर सरकार बड़ा फैसला

Kumbh 2019 पर आतंकवादी हमले की साज़िश

Advertisement

Pakistani Snipers पर भारत ने दिए Surgical Strike के संकेत

मुंबई में गैंगस्टर Dawood Ibrahim का पुराना साथी गिरफ्तार

Mohammad kaif ने इमरान खान को दिया करारा जवाब

 

Leave a Reply