शराब पिने की वजह से डैमेज हुए लिवर को कैसे ठीक करे || Liver Detox

लीवर हमारे शरीर में एक फिल्टर की तरह काम करता है। जिसके कुल मिलाकर 400 से भी ज्यादा अलग-अलग फंक्शन होते हैं। लीवर में जब छोटी सी गड़बड़ी आती है। तो इसका सीधा असर हमारी त्वचा बाल और पाचन पर नजर आने लगता है।आमतौर पर लीवर में खराबी आने के दो मुख्य कारण होते हैं। खराब खानपान और ज्यादा मात्रा में शराब पीना। मतलब कि एल्कोहल का सेवन करना। भारत में हर साल लगभग ढाई लाख लोग लिवर से जुड़ी बीमारी के कारण अपनी जान गवा देते हैं। जिनमें से ज्यादातर लोगों के लीवर शराब की वजह से ही खराब होते हैं। एल्कोहल एक सोशल ड्रिंक है। जिसे शादी बर्थडे एनिवर्सरी वीकेंड और किसी भी खास मौके पर सेलिब्रेट करने के लिए पिलाया जाता है। क्या आप जानते हैं सही मात्रा में एल्कोहल का सेवन करना हमारी सेहत के लिए अच्छा होता है. इसलिए कई दवाइयों में भी एल्कोहल का इस्तेमाल किया जाता है।

लेकिन ज्यादा एल्कोहल हमारे शरीर के लिए बेहद ही हानिकारक सिद्ध हो सकता है. वजह है इसमें पाए जाने वाला एथेनॉल मतलब कि ऐसा केमिकल कंपाउंड जब हमारे शरीर में जाता है। तो यह हमारे लिवर सेल्स को डैमेज करने लगता है। जिससे धीरे-धीरे लीवर से संबंधित रोग पैदा होने लगते हैं।  आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि ज्यादा शराब पीने की वजह से हुए लीवर डैमेज को रिकवर कैसे किया जा सकता हैकैसे लीवर में जमे सभी विषैले पदार्थों को बाहर निकालकर इसे दोबारा पहले की तरह हेल्थी बनाया जा सकता है

शराब पिने से शरीर में क्या होता है 

आमतौर पर एक पेग मतलब कि 30 से 60 मिलीलीटर शराब को पचाने के लिए हमारे लीवर को 1 घंटे का समय लगता है।जबकि शराब से होने वाला बुरा असर हर व्यक्ति में अलग-अलग भी हो सकता है। यह निर्भर करता है कि आप का लीवर कितना मजबूत है। कभी-कभी कम मात्रा में शराब पीने से शायद लीवर इतना डैमेज ना हो। लेकिन जब कोई व्यक्ति रोजाना एक रूटीन में एल्कोहल को कंज्यूम करने लगता है। तो इसका लीवर पर सबसे ज्यादा बुरा असर होता है। इसके अलावा आप रोजाना ज्यादा शराब नहीं पीते।लेकिन जब भी पीते हैं तो लिमिट से ज्यादा ही पी जाते हैं। तो ऐसी सिचुएशन में भी लीवर बहुत ज्यादा डैमेज होता है। शराब से जब हमारा लीवर धीरे-धीरे खराब होने लगता है।

तो शुरुआत में हमें इसका पता भी नहीं चलता लेकिन शराब हर बार हमारे लीवर को छोटे-छोटे घाव देती ही जाती है। शराब से जब लीवर का फंक्शन बिगड़ जाता है। तो इसे एल्कोहलिक लिवर डिजीज कहा जाता है और लिवर सिरोसिस लिवर से जुड़ी बीमारी की सबसे आखिरी स्टेज मानी जाती है। लीवर में आई खराबी को शुरुआत में कई लक्षणों से पहचाना जा सकता है। त्वचा पर लाल चकत्ते होना,भूख कम लगना,अचानक वजन बढ़ना या वजन घटना,बालों का झड़ना,पाचन में गड़बड़ी,पेट दर्द या पेट में सूजन आना त्वचा में खुजली और लगातार थकान लिवर डैमेज होने के कुछ आम लक्षण है। लेकिन इसके बाद भी यह समस्या बढ़ने लगती है तो धीरे-धीरे त्वचा का रंग पीला पड़ने लगता है और व्यक्ति को जोंडिस मतलब की पीलिया भी हो सकता है।

गहरे रंग का पेशाब और काले या लाल रंग का मल संकेत होता है कि लीवर गंभीर रूप से डैमेज है। जब लीवर बेहद कमजोर पड़ जाता है। तो इसमें से पानी भी निकलने लगता है और वह पानी पेट और बॉडी के दूसरे हिस्सों में पहुंचने लगता है। जिससे शरीर के दूसरे हिस्सों में सूजन आने लगती है। शरीर के खून के थक्के बन बनाने की क्षमता कमजोर हो जाती है और कई बार शरीर के अंदरूनी हिस्सों में भी ब्लीडिंग होने लगती है। जिससे पेशाब और मल में भी खून दिखाई देने लगता है। छोटी मोटी चोट लगने पर भी खून ज्यादा बहने लगता है और घाव भी काफी लंबे समय तक ठीक नहीं होते।

जब हमारा लिवर ठीक तरह से पचाने में सक्षम नहीं होता तो व्यक्ति को लगातार कब्ज की शिकायत शुरू हो जाती है। जिससे पाइल्स जैसी गंभीर बीमारियां होने की संभावना भी काफी ज्यादा बढ़ जाती है। लीवर कमजोर होने से इसका असर व्यक्ति के दिमाग पर भी पड़ता है। सोचने समझने की शक्ति कम होने लगती है। दिमाग में फिजूल के ख्याल और स्ट्रेस बढ़ जाता है। इसके अलावा लीवर की कमजोरी शरीर के हार्मोन के बैलेंस को भी पूरे तरीके से बिगाड़ देती है। जिसमें टेस्टोस्टेरोन जैसे जरूरी हार्मोन भी शामिल है। इन हार्मोन की कमी होने पर व्यक्ति कई तरह के गुप्त रोगों का शिकार हो जाता है। एक बार जब शराब से लीवर डैमेज होने लगता है। तो दिन प्रतिदिन इसका बुरा असर और ज्यादा बढ़ता जाता है।  किसी भी गंभीर स्थिति से बचने के लिए जरूरी है कि लीवर को समय-समय पर डिटॉक्स किया जाए। क्योंकि डिटॉक्स करने से लीवर में जमे सभी विषैले पदार्थ बाहर निकलने लगते हैं और शराब से पहुंची हानि भी तेजी से रिकवर होने लगती है। आइए जानते हैं कुछ बेहद असरदार घरेलू नुस्खों के बारे में जिनके रोज रोजाना इस्तेमाल से शराब से हुए डैमेज लिवर तेजी से ठीक होने लगेगा और लीवर की सेहत पहले से ज्यादा अच्छी होती चली जाएगी।

यह भी पढ़े :- हकलाने और तुतलाने को दूर करने के उपाय और नुस्ख़े || Stammering / Stuttering

यह भी पढ़े :- आपकी सेहत के लिए हानिकारक है ये सफ़ेद आटा

घरेलू नुस्खे जिनके रोजाना इस्तमाल से शराब से खराब हुआ लिवर ठीक होने लगेगा 

मिल्क थिसल

जब भी लिवर से जुड़ी बीमारियां लिवर की सफाई करने की बात आती है। तो मिल्क थिसल का नाम सबसे पहले आता है।  यह एक प्रकार का पौधा होता है। जिसकी लंबाई 5 से 10 फीट तक बढ़ सकती है। इसके बीजों में सैलमरीन नाम का कंपाउंड पाया जाता है। जोकि लीवर में आई कमजोरी को दूर करता है। नेचुरल सप्लीमेंट के तौर पर इस्तेमाल होने वाली यह सबसे प्रसिद्ध लिवर डिटॉक्स जड़ी बूटी है। मिल्क थिसल के कैप्सूल आपको किसी भी दवाई या सप्लीमेंट के स्टोर पर आसानी से मिल जाएंगे और अगर आप चाहे तो इसे ऑनलाइन भी मंगवा सकते हैं। रोजाना 50 से 100 mg मिल्क थिसल की गोली का सेवन करने से लीवर में आई खराबी जल्दी से रिकवर होने लगती है। एंटी ऑक्सीडेंट होने की वजह से कई स्पोर्ट्स पर्सन और एथलीट इसका सेवन करते हैं।

ताकि चोट बीमारी और इंटरनल इंजरी और इन्फेक्शन से खुद को जल्दी रिकवर किया जा सके। लेकिन इसका सबसे ज्यादा असर हमारे लिवर डैमेज को रिपेयर करने में होता है। खासकर शराब पीने की वजह से हुआ कमजोर लीवर इसके इस्तेमाल से जल्दी रिकवर होना शुरू हो जाता है। वैसे तो मिल्क थिसल से कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है और यह सेवन करने के लिए भी पूरी तरीके से सुरक्षित है। लेकिन फिर भी हर व्यक्ति पर इसका असर अलग-अलग होता है इ.सलिए इसका सेवन शुरू करने से पहले एक बार किसी डॉक्टर या हेल्थ स्पेशलिस्ट की सलाह लेना ज्यादा कारगर सिद्ध होगा।

टरमरिक एक्सट्रैक्ट

हल्दी लिवर की सफाई करने के लिए बेहद उपयोगी मानी जाती है। टरमरिक एक्सट्रैक्ट वैसे तो हल्दी से ही बनाया जाता है। लेकिन यह हल्दी से कई गुना ज्यादा ताकतवर होता है। रोजाना एक गिलास पानी में 5 से 6 बूंद टरमरिक एक्सट्रैक्ट और एक चम्मच शहद मिलाकर इसका सेवन करें। टरमेरिक एक्सट्रैक्ट भी आपको किसी भी दुकान पर या ऑनलाइन आसानी से मिल जाएगा और अगर किसी भी तरीके से आप इसका सेवन नहीं कर पाते हैं। तो इसकी जगह हल्दी पाउडर का इस्तेमाल गर्म पानी या दूध के साथ करें। हल्दी के अंदर एंटी ऑक्सीडेंट और anti-inflammatory प्रॉपर्टीज पाई जाती है। हमारे शरीर को बीमारियों से दूर रखने और दिमागी क्षमता बढ़ाने और जोड़ों के दर्द को दूर करने के साथ-साथ या लिवर से जुड़ी हर तरह की समस्या को ठीक करने में पूरी तरह से सक्षम होती है। जिन लोगों का शराब की वजह से लीवर कमजोर हो जाता है। उन्हें अपने रोजाना के खाने में हल्दी को जरूर शामिल करना चाहिए।

किसमिस का पानी

किसमिस का पानी भी लीवर की सफाई के लिए एक अद्भुत दवा की तरह काम करता है। लगभग 500 मिलीलीटर पानी को गर्म करके उसमें एक कटोरी किसमिस रात भर गलने के लिए रख दें। उसके बाद सुबह इस पानी को छानकर अलग कर ले और सुबह खाली पेट से लेकर पूरे दिन एक 1 घंटे के अंतराल में थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहे। गलने के बाद किसमिस को शाम के समय या फिर सुबह नाश्ते के समय सेवन किया जा सकता है। लगातार तीन दिन तक किसमिस का पानी पीते रहने से लीवर में मौजूद सारी गंदगी बाहर निकल जाती है और लीवर पहले से ज्यादा स्वस्थ बन जाता है। किसमिस का पानी पेट से जुड़ी हर तरह की समस्या जैसे की कब्ज,एसिडिटी के लिए भी बहुत उपयोगी होता है। यह एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। जिसके सेवन से शरीर का आलस्य दूर होता है और दिनभर  शरीर में एक अच्छी एनर्जी बनी रहती है। किशमिश के पानी के इस्तेमाल से दूसरे दिन से ही आपको अपने सेहत और शरीर की ऊर्जा में फर्क दिखना शुरू हो जाएगा।

गेहूं के जवारे का रस

इसके अलावा गेहूं के जवारे का रस भी लीवर की सफाई करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। इसके अंदर क्लोरोफिल की मात्रा अधिक होती है। साथ ही यह एक ताकतवर एंटी ऑक्सीडेंट भी है। जिसके इस्तेमाल से लिवर से जुड़ी हर तरह की बीमारी और लीवर की गंदगी पूरी तरह से खत्म हो जाती है। व्हीटग्रास जूस आपको किसी भी दवाई की दुकान या आयुर्वेदिक दुकान पर आसानी से मिल जाएगा या फिर आप इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

इन सभी उपायों का आपके शरीर पर असर हो इसलिए अपने रेगुलर डाइट में कुछ बदलाव बदलाव करना भी बेहद जरूरी है। सबसे पहले अपनी डाइट से जंग फूड,तली हुई चीजें और पैकेट में मिलने वाली चीजें बहुत ज्यादा मीठा और चर्बी पैदा करने वाले पदार्थ थोड़े समय के लिए पूरी तरह से बंद कर दे। सिर्फ ऐसी चीजें खाएं जिन्हें पचाना आसान हो। घर का सादा भोजन करें और खाने के साथ ज्यादा से ज्यादा सलाद और फलों का सेवन करें। जब हम हल्का भोजन करते हैं तो हमारे पाचन और लीवर पर जोर कम पड़ता है। जिससे दवाइयों और नुस्खों का असर दुगना हो जाता है।

जब तक आपका लिवर पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता तब तक शराब पीने के बारे में सोचे भी नहीं। क्योंकि लीवर को डिटॉक्स करने के दौरान शराब की एक बूंद भी पूरी मेहनत पर पानी फेर सकती है।

हल्की एक्सरसाइज जरूर करें शारीरिक हलचल या कसरत करने से शरीर का ब्लड प्रेशर सुधरता है और साथ ही शरीर के अंदरूनी अंगों की भी मरम्मत होती रहती है। इस पोस्ट में बताई गई सभी चीजें शराब से डैमेज हुए लीवर को तेजी से रिकवर करने के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद है लेकिन चुकी यह सभी चीजें पूरी तरह से प्राकृतिक है। इसलिए इनका सबसे ज्यादा असर शुरुआती दिनों में ही होता है। मतलब कि अगर आपका लीवर 70 से 80% या उससे ज्यादा खराब हो चुका है। तो ऐसी स्थिति में घरेलू नुस्खों के साथ-साथ  मेडिकल ट्रीटमेंट लेना भी बहुत जरूरी है। क्योंकि ज्यादा गंभीर स्थिति में बिना दवाइयों के लीवर का इलाज सफलतापूर्वक नहीं हो सकता।

यह भी पढ़े :- सोने का सही तरीका क्या है || Right way to sleep

यह भी पढ़े :- नारियल खाने से होने वाले फायदे || Health benefits of coconut

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *