ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें | How to identify bad coconut details in Hindi

ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें: दोस्तों, जब दशहरा, रक्षाबंधन या फिर कोई अन्य त्यौहार का समय होता है तो हर किसी को नारियल की जरूरत महसूस होती है| इस कारन से हमें दुकान से नारियल लेने के लिए जाना पड़ता है| लेकिन हम बिना जांचे एवं सोचे-समझे दुकान से नारियल खरीद कर ले आते हैं | लेकिन जब उन्हें घर पर आकर फोड़ते हैं तो उनमें से कई नारियल ख़राब निकल जाते हैं| यह देखकर हमें बहुत दुःख होता है एवं पछतावा भी| हालाँकि अगर एक नारियल ख़राब निकलता है तो अधिक पछतावा नहीं होता है लेकिन ख़राब निकलने वाले नारियलों की संख्या एक से अधिक होती है तो हमें बहुत अधिक पछतावा होता है|

और हम थोड़े समय के लिए उस दुकानदार पर से भविष्य में कोई भी चीज न खरीदने का मन बना लेते हैं | लेकिन हमें फिर से जरूरत महसूस हो सकती है और फिर से उसी दुकान पर जाना पड़ सकता है| तो क्यों न खुद को ही बदल लिया जाये | 

ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें | How to identify bad coconut details in Hindi
ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें | How to identify bad coconut details in Hindi

प्रस्तुत लेख में हम आपके लिए कुछ ऐसी ही जानकारी लेकर आये हैं | इस लेख में हम आपको बताएँगे कि ख़राब नारियल की पहचान कैसे की जाती है| इसके अलावा सूखा नारियल एवं हरा नारियल कैसा होता है| इस कारन से अगर आप इस लेख में बताई गयी जानकारी के आधार पर नारियल खरीदते हैं तो आपके लिए ख़राब नारियल खरीदने की सम्भावना बहुत ही कम होगी | एवं इस प्रकार से आपके रुपये व्यर्थ नहीं जायेंगे |  

तो सबसे पहले हम आपको ख़राब सूखे नारियल की पहचान कैसे करें इस बारे में बताने जा रहे हैं- 

सूखा नारियल कैसा होता है 

जब हरा नारियल सूख जाता है तब वह सूखा नारियल बन जाता है | सूखे नारियल का उपयोग लोग भगवान की पूजा करने में करते हैं | 

हालाँकि आपको बता दें कि जब सूखे नारियल को फोड़ा जाता है उसके अंदर जो निकलता है उसे चटक या गरी बोला जाता है | 

सूखे ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें

  • नारियल बजना चाहिए चूंकि जैसा कि आप जानते होंगे कि सूखे नारियल के अंदर एक छोटा सा नारियल होता है जिसे गरी या खोपड़ा बोला जाता है | तो जब आप नारियल को अपने हाथों से हिलाते हैं या दीवाल पर या सपाट जगह पर मारते हैं तो यह बजेगा | लेकिन अगर यह नहीं बज रहा है तो यह ख़राब निकल सकता है | 
  •  भले ही नारियल बज रहा है लेकिन नारियल में वजन नहीं हैं तो ऐसा नारियल भी अंदर से ख़राब निकलता है | तो आपको ऐसे नारियल को भी खरीदने से बचना चाहिए |  

तो फिर सवाल उठता है कि हमें कैसा सूखा नारियल खरीदना चाहिए ? 

आपको थोड़ा वजनदार एवं बजने वाला नारियल खरीदना चाहिए | क्योकि ऐसा सूखा नारियल ख़राब नहीं निकालता है | 

यह थे सूखे ख़राब नारियलों को पहचानने के तरीके | लेकिन अब हम बात करेंगे कि ख़राब हरे नारियलों को कैसे पहचाना जाये| लेकिन उससे पहले हरे नारियल के बारे में जानें|   

हरा नारियल कैसा होता है 

एक हरा नारियल वह होता है जो दिखने में बहुत बड़ा होता है एवं कच्चा होता है| जिसमें सर्वाधिक पानी भरा होता है | लोग उसके पानी को जमकर पीते हैं | और एक हरा नारियल वह होता है जिसे आप शुभ मुहर्त एवं त्यौहार पर खरीदकर लाते हैं | 

आपको बता दें कि कच्चा नारियल ही जब पक जाता है तो वही शुभ-मुहर्त पर उपयोग किया जाने वाला नारियल बन जाता है | एक कच्चे नारियल की अपेक्षा सर्वाधिक मांग शुभ-मुहर्त पर उपयोग किये जाने वाले हरे नारियल होती है |  

नीचे बताईं गयीं ख़राब नारियल को पहचान करने की युक्तियाँ भी केवल शुभ-मुहर्त पर उपयोग किये जाने वाले नारियल के लिए हैं- 

हरे ख़राब नारियल की पहचान कैसे करें

  • नारियल में बिलकुल भी पानी नहीं है | इस युक्ति को हर कोई जानता है | हालाँकि कभी-कभी ऐसे नारियल भी सही निकल जाते हैं | लेकिन ऐसे नारियलों के ख़राब निकलने की सम्भावना सबसे अधिक होती है |  
  • नारियल में बहुत अधिक वजनदार पानी बज रहा हो | अर्थात नारियल से पानी के बजने की आवाज बिल्कुल अलग है| तो ऐसे नारियल भी अधिकांश रूप से ख़राब निकलते हैं | ऐसे नारियलों को जब फोड़ा जाता है तो उनके अंदर चटक एवं पानी मिक्स होकर निकलता है | अर्थात पूरी तरह से ख़राब नारियल| इसलिए ऐसे नारियलों को खरीदने से बचें |  
  • अगर नारियल काला एवं फफूंद लगा है अर्थात आपको स्पष्ट रुप से दिख रहा हो कि नारियल पुराना है| तो ऐसे नारियल भी ख़राब निकल जाते हैं | तो आपको इस प्रकार के नारियल भी नहीं खरीदने चाहिए |  
  • कभी-कभी नारियल में दरार भी होती हैं तो ऐसे नारियल भी ख़राब होते हैं| क्योकि ऐसे नारियलों से पहले ही पूरा पानी निकल चुका होता है| हालाँकि ऐसे नारियल वजनदार होते हैं लेकिन पानी निकलने के कारन यह नारियल ख़राब हो चुके होते हैं|

तो फिर सवाल उठता है कि अच्छा हरा नारियल कैसा होता है ?

एक अच्छा हरा नारियल बड़ा, अधिक वजनी एवं पानी से भरा हुआ होता है| एवं उसके अंदर दरार नहीं होती है एवं बजाने पर पानी की स्पष्ट आवाज देता है | 

अब कुछ ऐसी तकनीकों से बचाव के तरीके जिन्हें अक्सर बिक्रेता आजमाते हैं- 

अक्सर दुकानदार अपने ख़राब नारियलों से भी रुपये हासिल करने के लिए अलग-अलग तकनीकों का उपयोग करते हैं | वह आपको देखते ही देखते ख़राब नारियल भी पकड़ा देंगे | और आप उसे लेकर भी चले जायेंगे | तो आप इस प्रकार की तकनीकों से कैसे बच सकते हैं | यह जानने के आप नीचे बताये गयीं युक्ति को अपना सकते हैं- 

  • जैसे कि आपने दुकानदार से चार नारियल मांगे लेकिन दुकानदार अक्सर नारियलों को आपके हाथों तक नहीं पहुंचने देंगे बल्कि वे उन्हें पहले से ही पॉलीथिन में रख देते हैं | यहाँ पर आपको बता दें कि पॉलीथिन भी आपसे दूर रखी होती है | एवं इसके बाद वे आपसे और क्या सौदा लेना है इस बारे में पूछ सकते हैं | और आप उन्हें अपनी अगली सौदा के बारे में बताते हैं | एवं इस प्रकार से आपका ध्यान उन नारियलों से हट जाता है | और इस प्रकार से उन न जांचे गए नारियलों में ख़राब नारियल भी होते हैं जिन्हें आप अपने घर पर ले आते हैं |

कैसे बचा जाये- ऐसी स्थिति में आप नारियलों से अपना ध्यान न हटने दें | नारियल भले ही आपसे दूर रख दिए गए हों लेकिन आपको दुकानदार से उन नारियलों को अपने पास रखने का आग्रह करना चाहिए| एवं इस प्रकार से आप एक-एक से नारियल जाँच सकेंगे | लेकिन अगर दुकानदार जांचने से मना कर रहा है तो आपको किसी अन्य दुकान से नारियल खरीदने चाहिए | 

यह भी पढ़ें- व्यायाम कब नहीं करना चाहिए ?

यह लेख बेहतरीन नारियल विशेषज्ञों की देखरेख में लिखा गया है | लेकिन फिर भी हम कुछ भूल रहे हों तो आप हमें कमैंट्स करके बता सकते हैं |

Share this:

About The Author

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top