लॉकडाउन के समय अपना मानसिक स्वास्थ्य कैसे ठीक रखे

कोरोना वायरस से बचाव के लिए पूरे  भारत में 21 दिनों कालॉकडाउन निकल चुका है और अब अगले 19 दिन भी लॉकडाउन लगा रहेगा । मतलब 3 मई 2020 तक लोग घरों में बंद हैं और सब कुछ जैसे रुका हुआ है । भागती – दौड़ती जिंदगी में अचानक लगे इस ब्रेक और कोरोना वायरस के डरने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डालना शुरू कर दिया है । इस बीच चिंता , डर , अकेलेपन और अनिश्चितता का माहौल बन गया है और लोग दिन – रात इससे जूझ रहे हैं । कई लोग तो इस समय अपने घरों और दोस्तों से भीतर हैं ।

 

अकेले ही हालात से निपट रहे हैं । एक कमरे में बंद अनिश्चित भविष्य के बारे में सोचकर लोगों की मानसिक दिक्कतें बढ़ी हैं ।  लोगों के लिए पूरा माहौल बदल गया है । अचानक से स्कूल , ऑफिस , बिजेनसबंद हो गए , बाहर नहीं जाना है और दिनभर कोरोना वायरस की ही खबरें देखनी हैं । इसका असर मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ना स्वाभाविक है ।  लोगों को परेशान करने वाली तीनवजहें हैं । एक तो कोरोना वायरस से संक्रमित होने काडर , दूसरा नौकरी और कारोबार लेकर अनिश्चितता और तीसरा लोकडाउन के कारण आया अकेलापन |

इसके कारण उनके स्वास्थ्य से संबंधित कई हानिकारक प्रभाव शरीर पर चल रहे हैं। उनमें से कुछ का वर्णन है.

तनाव के कारण शरीर पर प्रभाव:-इन स्थितियों का असर ये होता है कि  तनाव बढ़ने लगता है । सामान्य  तनाव तो हमारे लिए अच्छा होता है इससे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहन मिलता है लेकिन ज्यादा तनाव , डिस्ट्रेस बन जाता है । ये तब होता है जब हमें आगे कोई रास्ता नहीं दिखता । घबराहट होती है , ऊर्जाहीन महसूस होता है । फिलहाल महामारी को लेकर इतनी अनिश्चितता और उलझन है कि कब तक सब ठीक होगा , पता नहीं । ऐसे में सभी के तनाव में आने का खतरा बना हुआ है ।

शरीर पर असर :- बार – बार सिरदर्द , रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना , थकान , और ब्लडप्रेशर में उतार – चढ़ाव ।भावनात्मक असर:- चिंता , गुस्सा , डर , चिड़चिड़पना , उदासी और उलझन हो सकती है ।

दिमाग पर असर :- बार – बार बुरे खयाल आना । जैसे मेरी नौकरी चली गई तो क्या होगा , परिवार कैसा चलेगा , मुझे कोरोना
वायरस हो गया तो क्या  करेंगें सही और गलत समझ ना आना ,
ध्यान नहीं लगा पाना ।

व्यवहार पर असर :- ऐसे में लोग शराब , तंबाकू , सिगरेट का सेवन ज्यादा करने लगते हैं । कोई ज्यादा टीवी देखने लगता है , कोई
चीखने चिल्लाने ज्यादा लगता है , तो कोई चुप्पी  साध लेता है ।

कैसै  दूर  होगा  तनाव?

मानसिक तनाव की स्थिति से बाहर निकलना बहुत जरूरी है वरना तनाव अंतहीन हो सकता है । कुछ तरीकों से खुद को शांत ख
सकते हैं ताकि आप स्वस्थ रह‌‌

  • 1)खुद को मानसिक रूप से मजबूत करना जरूरी है । आपको ध्यान रखना है  फिर से ठीक होगा और पूरी दुनिया इस कोशिश में जुटी
    हुई है । बस धैर्य के साथ इंतजार करें ।
  • 2)अपने रिश्तों को मजबूत करे । छोटी बेटी बातों का बुरा ना माने । एक – दूसरे से बातें करें और सदस्यों का ख्याल रखें । निगेटिव
    बातों पर चर्चा कम करें ।
  • 3)घर से बाहर तो नहीं निकल सकते लेकिन , छत पर , खिड़की पर, बालकनी या घर के बगीचे में आकर खड़े हों । सूरज की रोशनी से
    भी हमें अच्छा महसूस होता है ।
  • 4) अपनी दिनचर्या को बनाए रखें । इससे हमें एक उद्देश्य मिलता है और सामान्य महसूस होता है । हमेशा की तरह समय पर ना ,
    जागना , खाना – पीना और व्यायाम करे।
  • 5)एक महत्वपूर्ण तरीका ये है कि इस समय का इस्तेमाल अपनी हॉबी पूरी करने में करें । वो मनपसंद काम जो समय न मिलने के
    कारण आप ना कर पाए हों । इससे आपको बेहद खुशी मिलेगी जैसे कोई अधूरी इच्छा पूरी हो गई है ।
  • 6) अपनी भावनाओं को जाहिर करना । अगर डर , उदासी है तो अपने अंदर छुपाएं नहीं बल्कि परिजनों या दोस्तों के साथ शेयर
    करें । जिस बात का बुरा लगता है , उसे पहचानें और जाहिर करें , लेकिन वो गुस्सा कहीं और ना निकालें ।
  • 7)भले ही आप परिवार के साथ घर पर रह रहें फिर भी अपने लिए कुछ समय जरूर निकालें । आप जो सोच रहे हैं उस पर विचार करें
    । अपने आपसे भी सवाल पूछे जितना हो पॉजिटिव नतीजे पर पहुंचने की कोशिश करें ।
  • 8)सबसे बड़ी बात बुरे समय में भी अच्छे पक्षो पर गौर करना है जैसे अभी महामारी है , लॉकडाउन है लेकिन इस बीच आपके पास
    अपने परिवार के साथ बिताने के लिए , अपनी हॉबी पूरी करने के
    लिए काफी समय है । इस मौके पर भी ध्यानदें ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *