लॉकडाउन के समय अपना मानसिक स्वास्थ्य कैसे ठीक रखे

2
243

कोरोना वायरस से बचाव के लिए पूरे  भारत में 21 दिनों कालॉकडाउन निकल चुका है और अब अगले 19 दिन भी लॉकडाउन लगा रहेगा । मतलब 3 मई 2020 तक लोग घरों में बंद हैं और सब कुछ जैसे रुका हुआ है । भागती – दौड़ती जिंदगी में अचानक लगे इस ब्रेक और कोरोना वायरस के डरने लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डालना शुरू कर दिया है । इस बीच चिंता , डर , अकेलेपन और अनिश्चितता का माहौल बन गया है और लोग दिन – रात इससे जूझ रहे हैं । कई लोग तो इस समय अपने घरों और दोस्तों से भीतर हैं ।

 

अकेले ही हालात से निपट रहे हैं । एक कमरे में बंद अनिश्चित भविष्य के बारे में सोचकर लोगों की मानसिक दिक्कतें बढ़ी हैं ।  लोगों के लिए पूरा माहौल बदल गया है । अचानक से स्कूल , ऑफिस , बिजेनसबंद हो गए , बाहर नहीं जाना है और दिनभर कोरोना वायरस की ही खबरें देखनी हैं । इसका असर मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ना स्वाभाविक है ।  लोगों को परेशान करने वाली तीनवजहें हैं । एक तो कोरोना वायरस से संक्रमित होने काडर , दूसरा नौकरी और कारोबार लेकर अनिश्चितता और तीसरा लोकडाउन के कारण आया अकेलापन |

इसके कारण उनके स्वास्थ्य से संबंधित कई हानिकारक प्रभाव शरीर पर चल रहे हैं। उनमें से कुछ का वर्णन है.

तनाव के कारण शरीर पर प्रभाव:-इन स्थितियों का असर ये होता है कि  तनाव बढ़ने लगता है । सामान्य  तनाव तो हमारे लिए अच्छा होता है इससे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहन मिलता है लेकिन ज्यादा तनाव , डिस्ट्रेस बन जाता है । ये तब होता है जब हमें आगे कोई रास्ता नहीं दिखता । घबराहट होती है , ऊर्जाहीन महसूस होता है । फिलहाल महामारी को लेकर इतनी अनिश्चितता और उलझन है कि कब तक सब ठीक होगा , पता नहीं । ऐसे में सभी के तनाव में आने का खतरा बना हुआ है ।

शरीर पर असर :- बार – बार सिरदर्द , रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम होना , थकान , और ब्लडप्रेशर में उतार – चढ़ाव ।भावनात्मक असर:- चिंता , गुस्सा , डर , चिड़चिड़पना , उदासी और उलझन हो सकती है ।

दिमाग पर असर :- बार – बार बुरे खयाल आना । जैसे मेरी नौकरी चली गई तो क्या होगा , परिवार कैसा चलेगा , मुझे कोरोना
वायरस हो गया तो क्या  करेंगें सही और गलत समझ ना आना ,
ध्यान नहीं लगा पाना ।

व्यवहार पर असर :- ऐसे में लोग शराब , तंबाकू , सिगरेट का सेवन ज्यादा करने लगते हैं । कोई ज्यादा टीवी देखने लगता है , कोई
चीखने चिल्लाने ज्यादा लगता है , तो कोई चुप्पी  साध लेता है ।

कैसै  दूर  होगा  तनाव?

मानसिक तनाव की स्थिति से बाहर निकलना बहुत जरूरी है वरना तनाव अंतहीन हो सकता है । कुछ तरीकों से खुद को शांत ख
सकते हैं ताकि आप स्वस्थ रह‌‌

  • 1)खुद को मानसिक रूप से मजबूत करना जरूरी है । आपको ध्यान रखना है  फिर से ठीक होगा और पूरी दुनिया इस कोशिश में जुटी
    हुई है । बस धैर्य के साथ इंतजार करें ।
  • 2)अपने रिश्तों को मजबूत करे । छोटी बेटी बातों का बुरा ना माने । एक – दूसरे से बातें करें और सदस्यों का ख्याल रखें । निगेटिव
    बातों पर चर्चा कम करें ।
  • 3)घर से बाहर तो नहीं निकल सकते लेकिन , छत पर , खिड़की पर, बालकनी या घर के बगीचे में आकर खड़े हों । सूरज की रोशनी से
    भी हमें अच्छा महसूस होता है ।
  • 4) अपनी दिनचर्या को बनाए रखें । इससे हमें एक उद्देश्य मिलता है और सामान्य महसूस होता है । हमेशा की तरह समय पर ना ,
    जागना , खाना – पीना और व्यायाम करे।
  • 5)एक महत्वपूर्ण तरीका ये है कि इस समय का इस्तेमाल अपनी हॉबी पूरी करने में करें । वो मनपसंद काम जो समय न मिलने के
    कारण आप ना कर पाए हों । इससे आपको बेहद खुशी मिलेगी जैसे कोई अधूरी इच्छा पूरी हो गई है ।
  • 6) अपनी भावनाओं को जाहिर करना । अगर डर , उदासी है तो अपने अंदर छुपाएं नहीं बल्कि परिजनों या दोस्तों के साथ शेयर
    करें । जिस बात का बुरा लगता है , उसे पहचानें और जाहिर करें , लेकिन वो गुस्सा कहीं और ना निकालें ।
  • 7)भले ही आप परिवार के साथ घर पर रह रहें फिर भी अपने लिए कुछ समय जरूर निकालें । आप जो सोच रहे हैं उस पर विचार करें
    । अपने आपसे भी सवाल पूछे जितना हो पॉजिटिव नतीजे पर पहुंचने की कोशिश करें ।
  • 8)सबसे बड़ी बात बुरे समय में भी अच्छे पक्षो पर गौर करना है जैसे अभी महामारी है , लॉकडाउन है लेकिन इस बीच आपके पास
    अपने परिवार के साथ बिताने के लिए , अपनी हॉबी पूरी करने के
    लिए काफी समय है । इस मौके पर भी ध्यानदें ।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here