Diabetes जड़ से खत्म करने के लिए इन चीजों का सेवन जरूर करे

दोस्तो डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए वैसे तो काफी चीजें हैं। जिनके बारे में आपने पहले भी सुना होगा। लेकिन अगर आपको खाने का सही तरीका और सही समय नहीं पता हो। तो वह चीजें भी आपके शरीर पर पूरी तरह से असर नहीं दिखा पाती। खानपान में गड़बड़ी मानसिक तनाव मोटापा और वर्कआउट की कमी के कारण हमारी हेल्थ पर खतरा दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। इसी वजह से कई तरह की अनचाही बीमारियां तेजी से फैल रही हैं। इन्हीं बीमारियों की लिस्ट में है एक खतरनाक बीमारी डायबिटीज। जो कि आजकल बहुत आम बन गई है और भारत में लगभग 5 करोड़ से ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में है। कहा जाता है कि डायबिटीज पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाली बीमारी होती है। यानी कि परिवार में पहले किसी को डायबिटीज की शिकायत हो। तो आपको भी डायबिटीज होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

लेकिन अगर आप बहुत ज्यादा मीठा खाते हैं,बहुत ज्यादा हैवी भोजन करते हैं। यानी कि बाहर का तला हुआ जंक फूड खात हैं। बावजूद इसके आपकी लाइफ स्टाइल में किसी भी तरह का शारीरिक व्यायाम यानी कि वर्कआउट शामिल नहीं है। तो आपको थोड़ी सावधानी बरतने की बहुत ज्यादा आवश्यकता है। क्योंकि आपको भी डायबिटीज हो सकता है। एक बार जब किसी व्यक्ति को डायबिटीज हो जाता है। तो केवल दवाइयों पर निर्भर होने की बजाय उसे अपनी रोजाना की जिंदगी में भी बदलाव लाने की आवश्यकता होती है। तब ही इस बीमारी को हमेशा के लिए खत्म किया जा सकता है। हर बीमारी के रोकथाम के लिए डाइट का एक खास योगदान होता है। अगर अपने रोजाना खानपान में डायबिटीज के खिलाफ असर दिखाने वाली चीजों का ज्यादा सेवन किया जाए।

तो बिना किसी दवाई या फिर इंसुलिन के शरीर के शुगर लेवल को पूरी तरह से कंट्रोल में रखा जा सकता है। इतना ही नहीं इन सभी खास चीजों के सेवन से डायबिटीज को कंट्रोल करके दोबारा मीठी चीजों का भरपूर आनंद लिया जा सकता है। आइए जानते हैं। दस ऐसी ही असरदार खाए जाने वाली चीजों के बारे में जिनके नियमित इस्तेमाल से डायबिटीज को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है।

दालचीनी 

हालांकि दालचीनी के स्वाद में थोड़ा मीठा पन होता है। लेकिन यह हमारे शरीर में शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए बहुत उपयोगी होती है। इसका सेवन करने से शरीर से बैड कोलेस्ट्रॉल कम होता है और साथ ही यह हमारे इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाती है। जो कि टाइप एक  और टाइप दो  डायबिटीज दोनों ही तरह के डायबिटीज में बहुत अधिक फायदेमंद होता है। सुबह के नाश्ते के साथ या फिर रात के खाने के बाद या दिन में किसी भी समय एक बार 5 से 10 ग्राम दालचीनी पाउडर का गर्म पानी के साथ सेवन किया जा सकता है।

आंवला और हल्दी 

आंवला एक सुपरफूड की श्रेणी में आता है और जब इसे हल्दी के साथ मिला दिया जाता है। तो यह डायबिटीज के खिलाफ और भी अधिक तेजी से असर दिखाता है।  आंवले के अंदर क्रोमियम नामक मिनरल पाया जाता है। जो कि हमारे शरीर के कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है और इंसुलिन बनाने की शक्ति को प्राकृतिक रूप से बढ़ाता है। रोजाना सुबह खाली पेट पानी पीने के आधे घंटे बाद 20 से 30 मिलीलीटर आंवला जूस में दो चुटकी हल्दी मिलाकर सेवन करें। लगातार ऐसा करने से मात्र 7 दिनों में ही शरीर के बढ़े हुए शुगर लेवल में तेजी से गिरावट आती है।

सदाबहार 

सदाबहार के पौधे को बारहमासी के नाम से भी जाना जाता है। यह जितना ज्यादा कॉमन और साधारण है। उतना ही अद्भुत इसका गुण है। डायबिटीज के साथ-साथ यह हाई ब्लड प्रेशर,कैंसर जैसी बीमारियों के लिए भी बहुत उपयोगी होता है। इसके नियमित इस्तेमाल से हमारे शरीर का खून साफ होता है और त्वचा से संबंधित हर तरीके की परेशानी में भी तेजी से सुधार आने लगता है। डायबिटीज में इसका इस्तेमाल करने के लिए पांच से छह सदाबहार के फूल और दो से तीन पत्तियों को खीरे और टमाटर के साथ मिलाकर जूस बना लें और रोजाना खाली पेट या दिन में खाना खाने के 1 घंटे बाद इसका सेवन करें। खीरे और टमाटर का सेवन करते समय इन दोनों के ही बीजों वाले हिस्से को निकाल दे और जूस को छानकर पिए।

सदाबहार के फूलों का असर ना सिर्फ शरीर के शुगर लेवल पर होता है। बल्कि यह हमारे पैंक्रियाज की कार्य क्षमता को भी बढ़ाता है। टाइप एक और टाइप दो दोनों तरह के ही डायबिटीज में यह बहुत अधिक फायदेमंद होता है। डायबिटीज या मधुमेह पर असर दिखाने वाली यह सबसे आसान और अच्छी औषधि मानी जाती है। इसी वजह से इसे डायबिटीज की संजीवनी भी कहा जाता है।

कड़ी पत्ता या मीठा नीम 

दोस्तों कड़ी पत्ते के अंदर इतने अधिक औषधीय गुण पाए जाते हैं कि इसके इस्तेमाल से कई तरह की गंभीर बीमारियों में अद्भुत परिणाम मिलते हैं। कई वैज्ञानिक और हेल्थ स्पेशलिस्ट यह मानना है  कि कड़ी पत्ते के अंदर कुछ ऐसे तत्व मौजूद हैं। जो कि शुगर की मात्रा को बढ़ने से रोकते हैं और साथ ही यह लंग कैंसर और महिलाओं के रीप्रोडक्टिव सिस्टम से जुड़ी हुई कई तरह की बीमारियों को सफलतापूर्वक ठीक करने में सक्षम है। इसका उपयोग करने के लिए 8 से 10 ताजे कड़ी पत्ते को पीसकर उसकी चटनी बना ले। उसके बाद एक गिलास पानी में इस चटनी को डालकर तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए। उसके बाद इसे छान लें और हल्का गर्म होने के बाद इसे चाय की तरह पिए। इसका सेवन हफ्ते में तीन बार दिन में खाना खाने के बाद या शाम के समय किया जा सकता है। अच्छे परिणाम के लिए अगर आप चाहे तो चुटकी भर दालचीनी पाउडर और हल्दी पाउडर भी मिला सकते हैं।

यह भी पढ़े :- किस कारण होता है शुगर डायबिटीज (शुगर)को ठीक करने के उपाय

यह भी पढ़े :- कड़वे करेले खाने के फायदे || जानिए किन लोगो को करेला नहीं खाना चाहिए 

एलोवेरा 

एलोवेरा जितना हमारी त्वचा और बालों के लिए उपयोगी होता है। उससे कई ज्यादा यह हमारी सेहत के लिए भी फायदेमंद है। स्टडी से पता चला है कि एलोवेरा के इस्तेमाल से डायबिटीज के साथ-साथ हाई ब्लड प्रेशर अस्तमा ग्लूकोमा और पेट से जुड़ी कई तरह की बीमारियों को ठीक किया जा सकता है। खासकर जिन लोगों का ब्लड शुगर का लेवल 200 से अधिक होता है। उनके शरीर पर एलोवेरा का सबसे ज्यादा असर होता है। एलोवेरा का सेवन खाली पेट करना सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। इसलिए बड़े हुए शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने के लिए रोजाना सुबह 20 से 30 मिलीलीटर एलोवेरा के जूस का गर्म पानी के साथ सेवन करना चाहिए। अगर आप चाहे तो एलोवेरा के जूस के साथ आंवले के जूस का भी सेवन कर सकते हैं।

आम के पत्ते 

आम के पत्तों का हमारे शरीर पर ग्लाइकोश्रमिक इफेक्ट होता है। यानी कि इसके इस्तेमाल से यह हमारी आंतों की चीनी सोखने की क्षमता को धीमा बनाता है। जिसकी मदद से हमारे शरीर में धीरे-धीरे ग्लूकोस की मात्रा कम होती जाती है। आम के पत्तों का इस्तेमाल करने के लिए पांच से छह आम के पत्तों को कूटकर इसकी चटनी बना ले।  इसके बाद इस चटनी को एक गिलास पानी में डालकर रात भर गलने के लिए रख दें। उसके बाद इस पानी को छानकर खाली पेट सेवन करें। आम के पत्तों के का यह पानी हमारे शरीर के इंसुलिन लेवल को बढ़ाने और शुगर लेवल को कम करने के लिए बहुत उपयोगी होता है।

गुड़हल 

गुड़हल के पत्ते कल के पत्ते डायबिटीज के लिए बहुत उपयोगी होते हैं। रिसर्च से पता चला है कि गुड़हल के पत्ते में पाया जाने वाला फाइटोकेमिकल शरीर में इंसुलिन सेंसटिविटी को बढ़ाता है। साथ ही साथ खून में शर्करा यानी कि शुगर की मात्रा को कम करता है। यह डायबिटीज में दवाई की तरह काम करती है। इसका इस्तेमाल करने के लिए गुड़हल के पांच से 6 पत्तों को पीसकर इन की चटनी बना ले और एक गिलास पानी में मिलाकर रात भर के लिए रख दें। इसके बाद अगले दिन सुबह और शाम दो बार इनका सेवन करें। अगर आप चाहे तो गुड़हल के पत्तों को सुखाकर इनका पाउडर बनाकर भी उपयोग कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए इसके पत्तों को छांव में ही सुख सुखाएं धूप में बिल्कुल भी ना सुखाए।

जामुन 

जामुन एक बहुत ही पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट है। जो कि हमारे इम्यून सिस्टम को तेजी से बूस्ट करता है।  इसके अंदर विटामिन-ए और विटामिन-सी की मात्रा होती है।  जो कि डायबिटीज के साथ-साथ आंखों और त्वचा के लिए भी बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। आयुर्वेद में डायबिटीज के लिए जामुन और जामुन के बीजों का इस्तेमाल पुराने समय से किया जा रहा है। काफी लोग इसके इस्तेमाल से डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल को आसानी से कंट्रोल रखने में सफल भी हुए हैं। वैसे तो जामुन एक सीजनल फूड है। लेकिन इसके बीजों का इस्तेमाल साल भर किया जा सकता है। जामुन के सीजन में जामुन का इस्तेमाल सुबह के नाश्ते के साथ किया जा सकता है।  साथ ही इसके बीजों को सुखाकर पाउडर बनाकर दिन में दो बार भोजन के बाद एक एक चम्मच गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन किया जा सकता है। यह इतना असरदार है कि मात्र 7 से 8 दिनों में ही डायबिटीज पर इसका असर ब्लड शुगर टेस्ट के जरिए देखा जा सकता है।

कलौंजी 

कलौंजी कई तरह के अमीनो एसिड से भरपूर होते हैं। जिन लोगों को भी टाइप एक  या टाइप दो किसी भी तरह का डायबिटीज है। अगर वह अपनी रोजाना डाइट में कलौंजी को शामिल कर लेते हैं। तो इससे डायबिटीज ठीक होने के साथ-साथ शरीर की पूरी सेहत पर भी अच्छा प्रभाव पड़ता है। मधुमेह और शुगर के मरीजों के लिए कलौंजी इतनी फायदेमंद होती है कि इसे anti-diabetic मेडिसन भी कहा जाता है। इसका सेवन खाना खाने के बाद सौंफ की तरह चबाकर किया जा सकता है।  साथ ही इसका पाउडर बनाकर पानी में उबालकर इसे चाय की तरह भी पिया जा सकता है। अगर आपको कलौंजी नहीं मिलती है। तो आप उसकी जगह इसके तेल का इस्तेमाल सलाद में मिलाकर भी कर सकते हैं।

मखाना

मखाने का इस्तेमाल कई तरह के व्यंजनों में और ड्राई फ्रूट्स की तरह किया जाता है। लेकिन खासकर डायबिटीज के मरीजों को इसका सेवन ज्यादा मात्रा में करना चाहिए। इसके अंदर फाइबर की मात्रा अधिक होती है। जो कि शरीर में मौजूद शुगर को तेजी से पचाने के लिए बहुत उपयोगी है और साथ ही यह हमारे पेट और पाचन के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। इसका सेवन रोजाना शाम के समय किया जा सकता है। दोस्तो डायबिटीज को ठीक करने और शरीर में ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए बताई गई। सभी चीजों में से ज्यादा से ज्यादा चीजों को अपनी रोजाना डाइट में शामिल करने की कोशिश करें। अगर इनमें से कुछ चीजें आपको बाजार में नहीं मिलती है। तो आप उन्हें ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

मधुमेह शुगर या डायबिटीज में अच्छी डाइट के साथ-साथ अच्छी लाइफ स्टाइल होना भी बहुत जरूरी है। इसलिए कोशिश करें कि रोजाना सुबह थोड़ा-बहुत व्यायाम यानी की एक्सरसाइज जरूर करें। क्योंकि कई बार थोड़ी बहुत एक्सरसाइज भी शरीर में मौजूद जटिल बीमारियों को ठीक करने में काफी अच्छा योगदान देती है। इसके साथ ही मीठी चीजों का कम से कम सेवन करें और पानी ज्यादा से ज्यादा पिए।  इसी के साथ मैं उम्मीद करता हूं कि आज का यह पोस्ट आपके जीवन में बहुत ही कारगर सिद्ध हो।

यह भी पढ़े :-  ऐसी चीजे जिनका सेवन हमे कभी भी नहीं करना चाहिए

यह भी पढ़े :-  भूल कर भी खाली पेट न खायें ये 10 चीज़े

यह भी पढ़े :-  शरीर में इन पोषक तत्वों की कमी से झड़ते है सिर के बाल

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *