PV Sindhu ने 6 फ़ाइनल हारने के बाद जीता BWF वर्ल्ड टूर फाइनल्स टूर्नामेंट्स

0
28

P.V Sindhu

pv sindhu 2016 के रिओ ओलम्पिक में पदक जितने वाले पी वी सिंधु ने एक और कीर्तिमान रचा है। पी वी सिंधु ने 6 फ़ाइनल हारने के बाद। सिंधु ने बैडमिंटन का सबसे बड़ा ख़िताब जीत लिया है। ये ख़िताब है BWF वर्ल्ड टूर फाइनल्स टूर्नामेंट्स। ऐसा करने वाली सिंधु इकलौती भारतीय खिलाडी है। इसका मतलब इससे पहले ये ख़िताब किसी भी भारतीय खिलाडी ने नहीं जीता है। इससे पहले किसी भी मेल फीमेल खिलाडी ने ये टूर्नामेंट नहीं जीता था।

जब Aluminium का bat लेकर बैटिंग करने के लिए उतर पड़ा ये क्रिकेटर

संडे को हुए इस मुकाबले में सिंधु pv sindhu  ने जापान कि Nozomi Okuhara को हरा कर ये ख़िताब अपने नाम कर लिया। सिंधु pv sindhu  ने 21-19 और 21-17 से हराकर साल का पहला ख़िताब जीता। आपको बता दे कि साल 2018 सिंधु के लिए अच्छा नहीं रहा था। क्योंकि इस ख़िताब से पहले वो इस साल कोई भी टूर्नामेंट नहीं जीत पाई थी। पिछली बार भी सिंधु इस टूर्नामेंट के फाइनल में हार गयी थी। लेकिन इस साल उन्होंने फाइनल में जीत हासिल कर ली।

आपको बता दे इस फाइनल में जीतने से पहले सिंधु pv sindhu   6 फाइनल में हार चुकी है। 2016 के ओलम्पिक में पदक जितने के बाद सिंधु कई अहम मुकाबलों के फाइनल में आकर हार गई। इस साल एशियाई गेम्स,कॉमनवैल्थ गेम्स और दो चैंपियनशिप के फाइनल में जाकर हार गई। लेकिन इस फाइनल में सिंधु जीतने में कामयाब रही। चीन में ये टूर्नामेंट जीत कर सिंधु ने अपना काम पूरा कर दिया। अब देश के लिए इतनी बड़ी जीत है। तो सिंधु को बधाई देने वालो की भी कोई कमी नहीं है। बहुत से बड़े खिलाडियों ने सिंधु को जीत पर बधाई दी।

Mahendra Singh Dhoni- धोनी के रिकॉर्ड जो आप नहीं जानते होंगे

तो अब सिंधु ने उनके ऊपर लगे फाइनल में हारने के दाग को इस जीत के साथ धो दिया है। सिंधु pv sindhu  ने 6 मुकाबलों के फाइनल में हारने के बाद भी हौसला और आत्मविस्वास बनाये रखा। उन्होंने हार नहीं मानी और अपना प्रयास जारी रखा। हम हमारी पूरी टीम की तरफ से पी वी सिंधु  pv sindhu  को उनकी इस जीत पर बहुत-बहुत बधाई देते है। हम ये दुआ करते है कि सिंधु जी इसी तरह खेलती रहे और हमारे देश का नाम रोशन करती रहे।

इस पोस्ट को  दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। हमे कमेंट के द्वारा अपने सुझाव जरूर भेजे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here